BLOGGER TEMPLATES AND TWITTER BACKGROUNDS

Monday, March 29, 2010




प्रार्थना


हाथ जोड़े करते हैं उनको नमन,
सूरज उगते ही स्पर्श करते हैं चरण,
हर मुसीबत और मुश्किल से हमें बचाना,
करते हैं हम इश्वर से यही प्रार्थना !

हर घड़ी करते हैं हम इश्वर को याद,
रहे सब कुशल मंगल करते हैं फ़रियाद,
बेचैन मन को मिलता है चैन और सुकून,
बिना बाधा के हर काम बन जाए सम्पूर्ण !

जो लक्ष्य किया है तय उसपर है चलना,
हर बाधा रुकावटों का करना है सामना,
ज़िन्दगी में कोई काम न रहे अधूरा,
मन से की गयी प्रार्थना से हो जाए पूरा !

22 comments:

संजय भास्कर said...

हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

संजय भास्कर said...

प्रार्थना SE SARE KAAM HAL HO JAATE HAI..

विजयप्रकाश said...

प्रेरणास्पद...सच में, मन से की हुई प्रार्थना अवश्य सुनी जाती है.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

ईश्वर आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण करेंगे!
क्योंकि आपने दिल से प्रार्थना की है!

मनोज कुमार said...

जो लक्ष्य किया है तय उसपर है चलना,
हर बाधा रुकावटों का करना है सामना,
ज़िन्दगी में कोई काम न रहे अधूरा,
मन से की गयी प्रार्थना से हो जाए पूरा !
बहुत अच्छी प्रार्थना। बहुत बहुत बधाई ! अनन्त शुभकामनाएं ।

arvind said...

जो लक्ष्य किया है तय उसपर है चलना,
हर बाधा रुकावटों का करना है सामना,
ज़िन्दगी में कोई काम न रहे अधूरा,
मन से की गयी प्रार्थना से हो जाए पूरा !
...बेहतरीन प्रस्‍तुति,प्रेरणास्पद,शुभकामनाएं.

Dhiraj Shah said...

सुन्दर रचना।

manav vikash vigyan aur adytam said...

bahoot sundar rachana hai

sangeeta swarup said...

मन से निकली खूबसूरत प्रार्थना ..

Shekhar Suman said...

bahut behtareen....
aapki kavitaon ne mann moh liya.....
waiting for your next poems.....
i also want to write some good poems....
mere blog par ek chhoti si koshish...jaroor dhyan dijiyega..........
http://i555.blogspot.com/

ओम पुरोहित'कागद' said...

आपका यह संदेश पा कर अपार हर्ष हुआ कि आप 2वर्ष तक राजस्थान मेँ रहीँ हैँ तथा राजस्थानी भाषा जानती समझती हैँ।आप आस्ट्रेलिया मेँ रहते हुए भी पूर्णरुपेण भारतीय हैँ तथा भारतीय भाषाओँ का परचम उठाए हैँ,यह जान कर गर्व हुआ।
*आपके रचना संसार से रू-ब-रु हुआ।हिन्दी मेँ लिखते रहने हेतु बधाई!

अक्षिता (पाखी) said...

बहुत सुन्दर लिखा आपने...हम भी प्रार्थना करते हैं.

_______
"पाखी की दुनिया" में इस बार "अंडमान में रिमझिम-रिमझिम बारिश"

Unseen Rajasthan said...

Sachhe Man se jo mage woh zarur milta hai !! Bhagwan sabka kalyan kare !!

tulsibhai said...

" ek sashakt sabdo bhari prathana "

----- eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

SAMVEDANA KE SWAR said...

इश्वर आपकी हर प्रार्थना स्वीकार करे..सच्चे मन से की गई प्रार्थना विफल नहीं होती..

संजय भास्कर said...

babli ji plz vist....

http://yuvatimes.blogspot.com/2010/03/blog-post_30.html

its me
sanjay bhaskar

alka sarwat said...

कविता भावपूर्ण है

Apanatva said...

sunder bhavna....
shubhkamnae......

Shekhar Suman said...

meri nayi rachna jaroor dekhein, aapki pratikriya ka intzaar rahega...

Kulwant Happy said...

बेहद अच्छा लगा। शब्द संख्या बढ़ी है।

लगता है समय में इजाफा कर दिया।

धीरे धीरे कम से ज्यादा कर दिया। बहुत अच्छा लगा।

KAVITA RAWAT said...

Bahut achhi lagi prarthna....
sache man se ki prarthna varth nahi jaati..
Bahut shubhkamnayne

Saumya said...

bauhat acchee...