BLOGGER TEMPLATES AND TWITTER BACKGROUNDS

Friday, August 6, 2010


मेरे प्यारे पापा

याद आए पापा परदेस में रहकर,
आँखें नम हो जाती है बारम्बार !


आज है जन्मदिन मेरे प्यारे पापा का,
अपनी बिटिया को मिले प्यार आपका !


सोच रही हूँ बचपन के दिनों को,
थामा करती थी आपकी मजबूत कलाई को !


भाई के साथ लड़ना माँ से डांट खाना,
नन्हे नन्हे क़दमों से आपके पास जाना !

सदा खुशहाल सही सलामत रहे आप,
आपकी प्यारी बिटिया है सदा आपके पास !

पापा मैं करती हूँ आपसे बहुत प्यार,
आपसे मिलने के लिए करती हूँ इंतज़ार !






15 comments:

मोहन वशिष्‍ठ 9991428447 said...

urmi ji aaj aapke papa ji ka janamdin hai maaf karna der se hi sahi par dil se unko janamdin ki hardik subhkamnayen hum bhagwan se prayer karenge ki unka aashirwad hamare sir par sadaiv bana rahe aur aapne jo janamdin ko shabd roopi motiyon me piroya hai kaabiletaarif hai bahut sunder rachna ka gift diya hai aapne
aapko bhi bahut bahut badhai hamari sabhi ki subhkamnayen uncle ji tak jarur pahunchayen gujarish hai hamari aapse

saath hi is khushi ke mauke par "PARTY TO BANTI HAI BOSS" to kab

मनोज कुमार said...

आपके पापा के जन्म दिन पर उनको और आपको ढेरों शुभकामनाएं।

Mithilesh dubey said...

आपके पापा के जन्म दिन पर उनको और आपको ढेरों शुभकामनाएं।

शरद कोकास said...

आपने पापा को जन्म दिन पर याद किया इससे बेहतर तरीका और क्या हो सकता है शुभकामनाये देने का ।

शिवम् मिश्रा said...

हमारी ओर से भी अंकल को जन्मदिन कि बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

Mukesh Kumar Sinha said...

Urmi jee, hamse bhi late ho gayee, iss post ko dekhne me..........aapke papa ko janamdin ki subhkamnayen, beshak late ho gaya main...........


kavita achchhi hai!

Apanatva said...

humaree bhee shubhkamnae jaroor pahuchaiyega....

विजयप्रकाश said...

वाह...मुझे भी अपना बचपन याद आ गया.पापा के प्रति अपनी भावनायें और अनुभूतियों को आपने सरल शब्दों में बांध कर जो कविता रची है इससे अच्छा जन्मदिन का उपहार हो ही नहीं सकता.
पापा को मेरी ओर से भी जन्मदिवस की हार्दिक बधाई.

Deepak Shukla said...

Hi..

Pyari bitia ka dekha hai..
Papa ko paigam..
Papa mujhko yaad ho aate..
Tum to subah-o-sham..

Door gayi ho chahe sabse..
Tum to gayi videsh..
Par tum dil main sabke rahtin..
Jo rahte tere desh..

Jitna yaad tum sabki kartin..
Wo bhi yaad karen utna..
Unki aankhon main basti tum..
Bankar ke meetha sapna..

Aapke papa ji ke janm divas ki hardik shubhkamnayen..

Deepak..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

निज बाबुल को दे रही, बबली शुभ आशीष।
बाबा जुग-जुग तक जिएँ, कृपा करेंगे ईश।।

tulsibhai said...

" papa ke janm din ke avsar pe der se sahi ...magar hamari subhkamnaye kubul rakhana "

----- eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

ओम पुरोहित'कागद' said...

उर्मी जी,
नमस्कार !
आपके पापा के जन्म दिन पर उनको और आपको ढेरों शुभकामनाएं।
आपने पापा को जन्म दिन पर याद किया इससे बेहतर तरीका और क्या हो सकता है !
शुभकामनाएं दें हमारी ओर से भी !
जन्मदिन पर आपके पापा को बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

सहज साहित्य said...

आपकी ये पंक्तियाँ मन को स्पर्श करनेवाली हैं ।

A said...

Awesome as I mentioned in the other coment

neelprerna said...

very nice poem!